निफ्टी क्या होता है? निफ़्टी ५० कम्पनीज.

 निफ्टी क्या होता है

जब भी आप कही शेयर्स मार्केट के बारे में कहिसे सुनते हो तो वहां आपको सेंसेक्स और निफ़्टी यह शब्द हमेशा सुनाने मिलते है। कही बार न्यूज़ चैनल में बताया जाता है की सेंसेक्स या निफ़्टी इतने अंको से कम हो गया या बढ़ गया है ,आप ऐसे वक़्त में यह समज लेते हो की शेयर्स मार्केट अब गिर गया है या बढ़ गया है । आप इसके बारे में कभी जानने की कोशिश नहीं करते। अगर आप आज इसे अच्छे से जानना चाहते हो तो आप सही सही जगह आये हो। 

आज हम आपको सभी बाते बिलकुल सही से और विस्तार से बताएंगे। 
 
निफ्टी और सेंसेक्स क्या है, इसे समझने के लिए आपको पहले भारतीय स्टॉक एक्सचेंजों को समझने की जरूरत है। अब, भारत के दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंजों पर चर्चा करें, जैसे कि 'बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज' और 'नेशनल स्टॉक एक्सचेंज' अपने सूचकांक के साथ।

इंडिया में BSE और NSE यह दो मुख्य स्टॉक एक्सचेंज है। स्टॉक एक्सचेंज एक मार्केट होता है जहां से आप शेयर्स खरीद या बेच सकते हो। निफ़्टी और सेंसेक्स दोनों ही इन्डेक्सेस है। सेंसेक्स बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज का मैं इंडेक्स है और निफ़्टी नेशनल स्टॉक एक्सचेंज  का मैं इंडेक्स है।
बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज पर ५००० से भी ज्यादा कम्पनिया लिस्टेड है और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर 6000 से ज्यादा कम्पनिया लिस्टेड है। और मार्किट का हाल जानने के लिए इन  सभी कंपनियों को ट्रैक करना बड़ा मुश्किल होता है। इसलिये यह इंडेक्स बनाये गए है।  जब आपको स्टॉक मार्केट का हाल जानना होता है तो आप निफ़्टी और सेंसेक्स से यह पता कर सकते हो। 

निफ्टी क्या है?

NSE का full form National Stock Exchange of India है। निफ्टी में 50 कंपनियां शामिल होती है। इसकी शुरुआत नवंबर 1994 को हुयी थी। Nifty शब्द- National और Fifty से मिलकर बना है। यहाँ Fifty नेशनल स्टॉक एक्सचेंज में शामिल 50 कंपनियों के लिए है।निफ्टी, जिसे  हम निफ्टी 50 भी कहते है, यह एक बाजार निर्देशांक है जिसमें 50 अच्छी और बड़ी तरह से स्थापित और वित्तीय रूप से अच्छी कंपनियां हैं जो भारत के नॅशनमल स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हैं।यह ५० कम्पनिया अलग अलग २४ सेक्टर से सेलेक्ट की जाती है।
निफ्टी का स्वामित्व और प्रबंधन भारत इंडेक्स सर्विसेज और प्रोडक्ट्स (IISL) द्वारा किया जाता है।


NIFTY किस तरह बनता है
आप इस बात को ध्यान में रखे की NIFTY  पे लिस्टेड केवल 50 कंपनीज के शेयर्स के भावो से मिलकर बनता है, जबकि NSE में कुल 6000 से भी ज्यादा कंपनी के शेयर लिस्टेड है,NIFTY की गणना में केवल 50 कंपनी के शेयर्स के भावो को शामिल करने के पीछे का कारण या है कि,ये 50 कम्पनीज़ के शेयर्स सबसे ज्यादा ख़रीदे और बेचे जाते है,ये 50 सबसे बड़ी कंपनीज होती है, जिनका मार्केट कैपिटलाइजेसन NSE में लिस्टेड सभी शेयर्स का लगभग 60% होता है,और ये 50 कम्पनीज भी 13 अलग अलग इंडस्ट्रीज़ और SECTOR से चुनी जाती है, और ये कंपनीज अपने सेक्टर की सबसे बड़ी कंपनी होती है.इन 50 कंपनीज का चुनाव NSE की INDEX Committee द्वारा किया जाता है, इस कमिटी में सरकार, बैंक और बड़े अर्थषास्त्री  को शामिल किया जाता है,

Previous
Next Post »